घर की आंतरिक सजावट का रखें खास ध्यान

घर की आंतरिक सजावट का रखें खास ध्यान

पंडित रमेश चंद्र बिजल्वाण

dreamसपनों के घर पर चार चांद लगाने की हर किसी की इच्छा होती है। इसके लिए लोग बाहय और आंतरिक सजावट पर खूब खर्च कर रहे हैं। बाजार में सजावट के तमाम तौर तरीके उपलब्ध भी हैं। कभी कभार तमाम महंगी सजावट आत्म संतुष्टि नहीं देती। कारण सज्जा वास्तु सम्मत नहीं होती।

दरअसल, घर की दीवारों का रंग रोगन से लेकर दीवारों पर उकेरे जाने वाले चित्रों का वास्तु में खास महत्व होता है। वास्तव में ये चित्र और रंग घर के अंदर सकारात्मक और नकारात्मक उर्जा का उत्सर्जन करते हैं। इसका यहां रहने वाले लोगों पर सीधा-सीधा असर पड़ता है।

कारण गलत चित्र घर में वास्तु दोष पैदा करते हैं। इससे मन मस्तिष्क प्रभावित होता है। घर की दीवारों पर चित्रों को वास्तु सम्मत बनाकर घर को सजीव और सकारात्मक उर्जा का बड़ा स्रोत के रूप में विकसित किया जा सकता है।
घर को खुशहाल बनाने के लिए दीवारों पर उकेरे जाने वाले चित्रों में इन बातों का ध्यान रखें

1. शेर, गीदड़, सूअर, सांप, गिद्ध, उल्लू, कबूतर, कौआ, बगुला, गिरगिट, बाज, बंदर, उंठ, बिल्ली आदि के चित्र, रामायण, महाभारत आदि युद्ध के चित्र, राक्षसों, भूत, प्रेत के भयंककर चित्र, इंद्र जालिक चित्र, रोते हुए, आंसू बहते हुए मनुष्य के चित्र, उदासीन, चिंतायुक्त, जख्म एवं रक्त बहते मानवों के चित्र, जीवां के शल्य, हडडी व नर कंकालों के चित्र, रोते बिलखते मनुष्यों के चित्र। ये सभी चित्र अशुभ फलदायक हैं। इसके अलावा ऐतिहासिक व पौराणिक वृतांतों के प्रतीकात्मक त्रित्र भी घर में नकारात्मक वातावरण पैदा करते हैं।

2. दीवारों पर उक्त चित्र घर में लाते हैं खुशहाली और फैलाते हैं सकारात्मक उर्जा। इसमें जल, झील व झरने के चित्र, उगते सूर्य, जल में तैरती मछली, जल से भरे घड़ों के साथ कन्या के चित्र, यंत्र का चित्र, गणपति का चित्र, मनोहारी और शीतलता प्रदान करने वाले चित्रों को घर की पूर्वी, उत्तरी या ईशान कोण वाली दीवार पर लगाए।

3. कुबेर का चित्र भी घर की उत्तरी दीवा पर लगाएं। जलते हुए दीपक, मोमबत्ती, हनुमान जी का चित्र अग्नेय या दक्षिण की दीवार पर लगाएं। राधाकृष्ण की युगल छवि का चित्र शयन कक्ष में लगाएं। मां अन्नपूर्णा का चित्र रसोई घर की पूर्व, उत्तर दिशा में या ईशान कोण वाली दीवार पर लगाएं।
प्रस्तुत पंडित रमेश चंद्र बिजल्वाण,
Panditrcb@yahoo.co.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

डीएम घिल्डियाल की पहल पर हुआ लंच विद लाडली

रूद्रप्रयाग। ‘‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ‘‘ के तहत जिले