हरिद्वार में दो दिवसीय ज्ञान कुंभ शुरू, राष्ट्रपति ने किया शुभारंभ

हरिद्वार में दो दिवसीय ज्ञान कुंभ शुरू, राष्ट्रपति ने किया शुभारंभ

- in हरिद्वार
479
0

हरिद्वार। देश में उच्च शिक्षा की बेहतरी के लिए जरूरी है कि केंद्र और राज्यों में समन्वय हो। ज्ञान कुंभ दोनों व्यवस्थाओं में समन्वय स्थापित करेगा।

ये कहना देश राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कोविंद शनिवार को हरिद्वार के पतंजलि विद्यापीठ में उत्तराखण्ड के उच्च शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित ज्ञान कुंभ के शुभारंभ के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।   कहा कि देश में सदियों से धार्मिक कुम्भ की परंपरा रही है। हरिद्वार, कुम्भ की भूमि है। इस भूमि में ज्ञान कुम्भ उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सार्थक पहल है। कहा कि ज्ञान कुम्भ द्वारा उच्च शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए केंद्र व राज्यों में नया समन्वय स्थापित होगा।

उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि ज्ञान कुम्भ में विभिन्न सत्रों में सार्थक व उपयोगी विमर्श होगा जिससे उच्च शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए सहायता मिलेगी। उन्होंने शिक्षा की गुणवत्ता पर जोर दिया। साथ ही कहा कि शिक्षण संस्थाओं में छात्र की प्रतिभा को निखारने का जिम्मा है। उन्होंने तमाम आदर्श शिक्षकों के उदाहरण भी इस मौके पर दिए।

राज्यपाल श्रीमती बेबीरानी मौर्य ने कहा कि कुम्भ नगरी हरिद्वार में ज्ञान कुम्भ का आयोजन निश्चित रूप से राष्ट्रीय शैक्षिक परिदृश्य के लिए हितकारी होगा। इस ज्ञानकुम्भ के आयोजन का मुख्य उद्देश्य आधुनिक चुनौतियों और आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उच्च शिक्षा के स्तर में सुधार लाना है। ज्ञानकुम्भ से प्राप्त ज्ञान रूपी अमृत, देश को एक नई दिशा प्रदान करेगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि ज्ञानकुम्भ का आयोजन उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक ऐतिहासक पहल है। इसमें होने वाले वैचारिक मंथन से जो अमृत निकलेगा वह देश की उच्च शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने में महत्वपूर्ण साबित होगा। शिक्षा एक ऐसा धन होता है जिसे न तो चुराया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है। शिक्षा के माध्यम से अंधकार को दूर कर ज्ञान रूपी प्रकाश फैलाया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय अपने निकटवर्ती क्षेत्रों के सामाजिक व आर्थिक विकास के लिए आगे आएं। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने राष्ट्रपति का आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम में आए सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि ज्ञान कुम्भ में विभिन्न राज्यों के शिक्षा मंत्री, विश्वविद्यालयों के कुलपति, 500 डिग्री कॉलेजों के प्राचार्य, 350 शोध छात्र, दो हजार मेधावी छात्र सहित 10 हजार शिक्षाविद प्रतिभाग कर रहे हैं। उच्च शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए आयोजित इस दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में कुल सात तकनीकी सत्रों का आयोजन किया जा रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जनरल-ओबीसी इम्प्लाइज एसो. ने सीएम राहत कोष में दिए पांच लाख

देहरादून।  उत्तराखंड जनरल ओबीसी इम्प्लाइज एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री