ये सम्मान बेटियों का हैः रावत

ये सम्मान बेटियों का हैः रावत

- in चमोली
162
0

अपने देश का सर्वोच्च “पद्म “नागरिक सम्मान की सम्मानीय सूची में अपने को पाकर गौरवान्वित हूं। मैं हृदय से आभारी हूँ उन शुभचिन्तको का जिन्होंने मुझे इस योग्य समझ कर,बिना मेरे संज्ञान में लाये मेरे नाम को इस सर्वोच्च नागरिक सम्मान के लिए भारत सरकार को भेजा।
वास्तव में यह सम्मान उन मित्रों, माता और बेटियों का सम्मान है जिन्होंने इस आन्दोलन को कन्धा से कन्धा मिलाकर आगे बढाया। ग्वालदम की धरती से उपजा यह आन्दोलन, वहाँ के बेटियों, प्रिय छात्र- छात्राओं,मित्रों और नागरिकों का सम्मान है जिन्होंने प्रारम्भिक दौर में इस आन्दोलन को समर्थन देकर इसे आगे बढाया। देश-दुनियां तक इस मुहिम को प्रचारित प्रसारित करने में मेरे अग्रज साहित्यकारों, पत्रकारों, मीडिया के शुभचिंतक भाई बहिनों को समर्पित है।

मेरे गांववासियों का आभार, क्षेत्रवासियों का आभार जो इस मुहिम को पर्यावरण मेले के रूप में आगे बढाने रहे हैं। अपने बिभाग के आदरणीय अधिकारियों, शिक्षकों-शिक्षिकाओं को समर्पित जिन्होंने नई पीढ़ी तक इस पर्यावरणीय सोच को शिक्षा से जोड़ कर समर्थन दिया। यह सम्मान उनको समर्पित है जो शुभ चिन्तक निःस्वार्थ भाव से निरन्तर हजारों लाखों शादियों में इस विचार को यादगार पेड़ लगाकर अपना धर्म निभा रहे हैं। नंदा सैंण जिला चमोली में दस हे0 जमीन पर श्री नन्दा देवी स्मृति मैती बन, गौरावन, पितृ वन बनाने में क्षेत्र की मैती बहिनों, महिला मंगल दलों को समर्पित है यह सम्मान जो आज भी इस मुहिम को आगे बढाने रहे हैं। पर्यावरण की मुहिम में समर्पित उन समस्त भाई-बहिनों, शुभचिन्तको का सम्मान है यह ,जो निःस्वार्थ भाव से धरती माँ को संवारने में लगे हैं।अपने सभी शुभचिंतकों का मैं हृदय से आभारी हूँ जिनका प्यार और आशीर्वाद सदा मेरे साथ बना रहता है। मैं भारत सरकार का हृदय से आभार ब्यक्त करता हूं जिन्होंने मुझे इस योग्य पाकर इस गरिमा पूर्ण सर्वोच्च नागरिक सम्मान से अलंकृत करने हेतु चयनित किया है।
पदमश्री कल्याण सिंह रावत के फेसबुक वाल से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

29 अप्रैल को खुलेंगे श्री केदारनाथ धाम के कपाट

रूद्रप्रयाग। विश्व प्रसिद्व भगवान श्री केदारनाथ मंदिर के