चिन्यालीसौड़ में 200 किवा. के सोलर प्लांट का मुख्यमंत्री ने लोकार्पण

चिन्यालीसौड़ में 200 किवा. के सोलर प्लांट का मुख्यमंत्री ने लोकार्पण

- in उत्तरकाशी
0

चिन्यालीसौड़। राज्य में सोलर फार्मिंग के कंसेप्ट पर भी काम किया जा रहा है। ताकि इसमे मौजूद रोजगार की संभावनाओं का राज्य की बेहतरी में दोहन किया जा सकें।

ये कहना है प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का। रावत चिन्यालीसौड़ इन्द्रा टिपरी में 200 किलोवाट क्षमता के सोलर ऊर्जा प्लांट के लोकापर्ण के मौके पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वरोजगार के लिए सरकार ने बड़े स्तर पर पहल की है।

इसी क्रम में सोलर फार्मिंग की कन्सेप्ट पर भी काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के माध्यम से लोगों को स्वयं के उद्यम प्रारम्भ करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसी के तहत मुख्यमंत्री सोलर स्वरोजगार योजना में 10 हजार मयुवाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है।

राज्य में ऊर्जा उत्पादन के नवाचारी व हरित तरीकों को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसी के तहत उत्तरकाशी निवासी युवा उद्यमी आमोद पंवार ने अपने गांव इंद्रा टिपरी में 200 किलोवाट क्षमता के सोलर प्लांट को स्थापित किया है।

इस प्लांट से सालाना औसतन तीन लाख यूनिट बिजली का उत्पादन होगा, यह बिजली अगले 25 सालों तक यूपीसीएल खरीदेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलाधिकारियों को जिला योजना धनराशि से 40 प्रतिशत धनराशि पशुपालन, कृषि, मत्स्य, मौन पालन आदि स्वरोजगार योजनाओं में खर्च करने के निर्देश दिए गए हैं।

उद्यमियों को ऋण लेने में समस्या न आए इसके लिए बैंकों से लगातार समन्वय किया जा रहा है। ताकि स्वरोजगार की दिशा में अधिक से अधिक उद्यमी अपनी आजीविका को सुदृढ़ कर सकें। पर्यटन के क्षेत्र में दस हजार मोटर बाइक की स्वीकृति दी गई है जिस पर दो साल तक का ब्याज राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहाड़ी व्यंजनों के उत्पाद हमारी विरासत हैं। इनके माध्यम से स्वरोजगार किया जा सकता है। कहा कि दूरस्थ क्षेत्रों में स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़क, दूरसंचार, बिजली, पानी,आदि उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार निरंतर काम कर रही है।

जल्द ही हिमालयन मीट (बकरे का मीट) की ब्रांडिंग करने वाले हैं। प्रति ने जो संसाधन हमें उपलब्ध कराए हैं उनका सही तरीके से उपयोग करें तो रोजगार के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कैम्पा के माध्यम से आग बुझाने, पेयजल स्त्रोतों को पुनर्जीवित करने आदि कामों में बड़े पैमाने पर रोजगार की व्यवस्था की गई है।

स्वरोजगार की दिशा में ग्रीन एनर्जी क्षेत्र में निवेश कर उद्यम स्थापित करने के लिए राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं के तहत सहायता कर रही है। कोई भी व्यक्ति सोलर प्लांट, व पिरूल प्लांट की स्थापना कर सकता है। इस अवसर पर विधायक केदार सिंह रावत, श्री गोपाल सिंह रावत, ऊर्जा सचिव श्रीमती राधिका झा सहित अन्य जनप्रतिनिधि और अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ेः हरिद्वार कुंभ में श्रृद्धालु निर्मल गंगा का अनुभव करेंगेः प्रधानमंत्री

यह भी पढ़ेः टिहरी बांध से प्रभावित हो रहा क्षेत्र का पारिस्थितिकी तंत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भारत की युद्ध नीति स्वार्थ नहीं परमार्थ के लिएः अजीत डोभाल

ऋषिकेश। भारत की युद्ध नीति स्वार्थ के लिए