मंत्रियों को मिले विभाग, क्षमताओं की होगी परख

मंत्रियों को मिले विभाग, क्षमताओं की होगी परख

cabinetकरीब पांच दिनों के इंतजार के बाद आखिरकार मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंत्रियों को विभाग बांट दिए हैं। अब विभागों के कामकाज में मंत्रियों की क्षमता की परख होगी।

सात कैबिनेट और दो राज्य मंत्रियों को विभाग बांट दिए गए हैं। अधिकांश मंत्रियों को काम की बेहतर संभावना वाले विभाग सौंपे गए हैं। अब देखने वाली बात होगी कि उक्त मंत्री इन चुनौतियों को कैसे लेते हैं। अधिकांश मंत्रियों ने बेहतर काम करने का भरोसा दे रहे हैं।

प्रदेश में पर्यटन, आयुष, कृषि, उद्यान,सहकारिता, पशुपालन में काम करने की बेहतर संभावनाएं हैं। कृषि और उद्यान में काफी पोटेंशियल है। हालांकि राज्य गठन के बाद उक्त दोनों विभागों में सरकार ने खास गौर नहीं किया। ये दोनों विभाग पलायन को रोकने का माध्यम भी बन सकते हैं।

इसी प्रकार पर्यटन, आयुष, सहकारिता और पशुपालन में भी काम करने का बेहतर मौके हैं। उक्त विभागों में पर्यटन का जिम्मा सतपाल महाराज, कृषि और उद्यान सुबोध उनियाल, आयुष विभाग डा. हरक सिंह रावत, सहकारिता डा. धन सिंह रावत और पशु पालन रेखा आर्य को सौंपा गया है।

इसके अलावा नगर विकास विभाग मदन कौशिक, पेयजल और आबकारी प्रकाश पंत, शिक्षा अरविंद पांडे, यशपाल आर्य को परिवहन विभाग सौंपा गया है। उक्त विभाग आम लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों के विभाग हैं। इन विभागों में बेहतरी डिलीवरी मंत्रियों के सम्मुख चुनौती होगी।

पिछले चार मुख्यमंत्रियों की तरह त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी लोक निर्माण, ऊर्जा विभाग अपने पास रखे। मुख्यमंत्री रावत चिकित्सा एवं स्वास्थ्य भी अपने पास रखा है। हालांकि अभी दो और मंत्री बनने हैं समझा जा रहा है कि सीएम अपने 40 विभागों में से ही उक्त मंत्रियों को विभाग देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

स्टिंग को लेकर छलका पूर्व सीएम हरीश रावत का दर्द

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के दिग्गज नेता