आयोग से चुने गए प्रवक्ताओं के तर्कों से पार पाना मुश्किल

आयोग से चुने गए प्रवक्ताओं के तर्कों से पार पाना मुश्किल

edu-lecप्रदेश के शिक्षा विभाग के लिए राज्य लोग सेवा आयोग से चुने गए प्रवक्ताओं के तर्कों से पार पाना मुश्किल हो रहा है।

उल्लेखनीय है कि राज्य गठन के बाद आयोग से चुने गए प्रवक्ता वरिष्ठता के घालमेल और प्रमोशन के पद पर अन्य कैडर की ओवरलैपिंग को लेकर सवाल खड़े करते रहे हैं। प्रवक्ता कल्याण परिषद के माध्यम से उक्त मामले विभागीय अधिकारियों के सामने भी रखे गए।

मामले पर गौर नहीं हुआ तो प्रवक्ता हाईकोर्ट पहुंच गए। अब कोर्ट ने विभाग से जवाब मांगा है। उच्च पदस्थ सूत्रों की माने तो विभागीय अधिकारियों के लिए आयोग से चुने गए प्रवक्ताओं के तर्कों से पार पाना मुश्किल हो रहा है।

कुछ तर्क तो विभाग की गले की फांस बन सकते हैं। इसमें प्रमोशन के पदों पर अन्य कैडर की ओवरलैपिंग का मामला प्रमुख रूप से शामिल है। विभागीय अधिकारियों को अब डर सता रहा है कि कहीं मनमर्जी की वरिष्ठता का मामला ही न खुल जाए।

वरिष्ठता के कुछ मामले तो खूब चर्चाओं में है। एक कार्मिक की दो कैडर में वरिष्ठता अब अधिकारियों को भी परेशान करने लगी है। हालांकि बातचीत में अधिकारी विभाग की प्रक्रिया को जस्टिफाई करने का प्रयास कर रहे हैं।

दरअसल, इन सब मामलों की दरवाजे सीटी संवर्ग की समाप्ति, अंशकालिक, तदर्थ, शिक्षा बंधु तक खुल रहे हैं। ये माना जा रहा है कि बात निकलेगी तो दूर तक जाएगी। आयोग से चुने गए प्रवक्ता हैं कि इस मामले में आर-पार की लड़ाई का ऐलान कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तराखंड में कोरोना से हुई मौत का आंकड़ा सौ के पार, आज 278 पॉजिटिव

देहरादून। राज्य में कोरोना से हुई मौत का