श्री बदरीनाथ के प्रस्तावित मास्टर प्लान के लुक्का छिप्पी खेल का देवप्रयाग में विरोध

श्री बदरीनाथ के प्रस्तावित मास्टर प्लान के लुक्का छिप्पी खेल का देवप्रयाग में विरोध

- in धर्म-तीर्थ
0

देवप्रयाग। श्री बदरीनाथ धाम के प्रस्तावित मास्टर प्लान को लेकर शासन/प्रशासन के रवैए की श्री बदरीनाथ/देवप्रयाग के तीथ पुरोहितों ने कड़ी आलोचना की। कहा कि बगैर चर्चा के मास्टर प्लान की कवायद का हर स्तर पर विरोध होगा।

उल्लेखनीय है कि श्री बदरीनाथ धाम में स्थानीय लोगों को जाना प्रतिबंधित है। इस दौरान चमोली जिला प्रशासन शासन के निर्देशों के तहत श्री बदरीनाथ धाम के मास्टर प्लान को धरातल पर उतारने की कवायद में जुटा है। मास्टर प्लान की खामियां को लोग न समझ सकें इसके लिए प्रशासन चर्चा से बच रहा है।

मंगलवार को देवप्रयाग में हुई तीर्थ पुरोहितों की बैठक में मास्टर प्लान की खामियां और प्रशासन के रवैए पर विस्तार से चर्चा हुई। कहा कि तीर्थ पुरोहितां को देवप्रस्थानम एक्ट में उलझाकर धाम से उनके अस्तित्व को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है।

सवाल उठाया गया कि जब बदरीनाथ में आम लोगों का मूवमेंट प्रतिबंधित है तो आखिर प्रशासन कैसे मास्टर प्लान की कवायद में जुटा हुआ है। क्यों मास्टम प्लान से प्रभावित हो रहे लोगों को नोटिस भेजकर कोरोना गाइड लाइन फॉलो करते हुए बुलाया जा रहा है।

वक्ताओं ने कहा कि मास्टर प्लान के तहत अधिग्रहित होने वाली भूमि/भवन के मुआवजे की जो बात सामने आ रहे हैं वो मंजूर नहीं है। कहा कि 30 वर्ष पूर्व मंदिर समिति ने पांच गुना मुआवजे का प्रस्ताव शासन को भेजा था और आज दुगना मुआवजा और कुछ प्रोत्साहन राशि की बात हो रही है।

स्पष्ट किया कि मास्टर प्लान में तीर्थ पुरोहित हक हकूकधारियों की नहीं सुनी गई। उनके मुताबिक व्यवस्था नहीं बनी तो इसका हर स्तर पर विरोध होगा। साथ कहा कि श्री बदरीनाथ और तीर्थ पुरोहित एक दूसरे के पर्याय हैं। तीर्थ पुरोहिता को उजाड़ने की कोई भी साजिश सफल नहीं होगी।

इस मौके पर चारधाम तीर्थ पुरोहित हक हकूकधारी महापंचायत के अध्यक्ष कृष्ण कांत कोटियाल, डा. गिरधर पंडित, डा. जमुना प्रसाद रैवानी,पंडा पंचायत के पूर्व अध्यक्ष मुकेश प्रयागवाल, सत्यनारायण कोटियाल आदि ने विचार रखे। संचालन डा. गिरधर पंडित ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

गवर्नमेंट डिग्री/पीजी कॉलेज के 70 प्राध्यापक श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय में समायोजित

देहरादून। आखिरकार सरकार ने गवर्नमेंट डिग्री/ पीजी कॉलेज