ऋषिकेश में सीवरेज ड्रेन री-मीडिएशन प्रोजेक्ट का लोकार्पण

ऋषिकेश में सीवरेज ड्रेन री-मीडिएशन प्रोजेक्ट का लोकार्पण

- in ऋषिकेश
589
0

ऋषिकेश। दो सालों के भीतर गंगा में सीधे मिल रहे गंदे नालों को टैप का ट्रीट किया जाएगा। इसके अलावा इस पुनीत कार्य में आम जन के सहयोग की दरकार है।

ये कहना है प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का। रावत परमार्थ निकेतन के सहयोग से चंद्रेश्वर नाले पर नीदरलैंड, डच तकनीकी पर आधारित जल शुद्विकरण सयंत्र के लोकार्पण के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि 2020 तक हर छोटे बड़े नाले को गंगा में गिरने से पहले टैप कर ट्रीट किया जाएगा।

उन्होंने परमार्थ निकेतन के सहयोग से बने प्लांट को बेहतर बताया। कहा कि ये कम लगात से तैयार हुआ है। ये प्रायोग है। सफल रहा तो इसे अन्य सीवर ट्रीटमेंट प्लांटों में भी लगाया जाएगा। स्वामी चिदानंद मुनि ने कहा कि सीवर ट्रीटमेंट प्वाइंट अब सेल्फी प्वाइंट बन जाएंगे।
उन्होंने तकनीकी की सराहना करते हुए कहा कि तमाम देशों में वर्षों से इस तकनीकी का उपयोग हो रहा है।

इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द्र अग्रवाल, मुख्य सचिव उत्तराखण्ड उत्पल कुमार सिंह, पेयजल एवं स्वच्छता सचिव अरविन्द हयांकी, एनएमसीजी के महानिदेशक राजीव रंजन महानिदेशक परियोजना निदेशक प्रवीण कुमार, तकनीकी निदेशक संदीप कुमार भारत में कोस्टारिका के राजदूत मारियला क्रूज आदि मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

105वीं जयंती पर याद किए गए टिहरी जनक्रांति के नायक

टिहरी। टिहरी जनक्रांति के नायक श्रीदेव सुमन को