जूनियर हाई स्कूल के प्रधानाध्यापकों को भी मिले प्रमोशन का अवसर

जूनियर हाई स्कूल के प्रधानाध्यापकों को भी मिले प्रमोशन का अवसर

- in शिक्षा
0

देहरादून। जूनियर हाई स्कूल के प्रधानाध्यापकों को भी प्रमोशन का मौका मिले। इसके लिए नियमावाली में जरूरी संशोधन किया जाए। इसको लेकर विभाग और शासन कई बार आश्वासन भी दे चुका है।

ये कहना है कि प्रदेशीय जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विनोद थापा का। कहा कि जूनियर हाई स्कूल प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात शिक्षकों की पदोन्नति के अवसर शून्य है। कई प्रधानाध्यापक 25 से 30 साल एक ही पद पर सेवा कर सेवानिवृत्त हो रहे है।

नियमावली में बेसिक शिक्षको के मात्र अभी तक दो पदोन्नतियां हो रही हैं। इसमें प्राथमिक सहायक से प्राथमिक प्रधानध्यापक /सहायक अध्यापक जूनियर हाईस्कूल। जूनियर हाईस्कूल सहायक अध्यापक( सीधी भर्ती ) का प्रधानाध्यापक जूनियर हाईस्कूल (मात्र एक पदोन्नति) है। जबकि शिक्षा विभाग के माध्यमिक शिक्षको एवम मिनिस्ट्रियल कर्मचारियों /राज्य कर्मचारियों के तीन प्रमोशन अनिवार्य कर नियमावली मे प्राविधान किया है राज्य कर्मचारियों को एसीपी का लाभ भी अनुमन्य है। जबकि बेसिक शिक्षकों को इस सुविधा से बंचित किया जा रहा है ।

प्रदेशीय जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विनोद थापा बेसिक शिक्षा का 2006 से राजकीयकरण हो चुका है। शिक्षको को चयन /प्रोन्नत वेतन का लाभ 10 और 22वर्षों मे एक ही पद पर होने पर दिए जाने का प्राविधान है। लेकिन, सातवें वेतनमान के गजट नोटिफिकेशन में प्रस्तर 13 के अनुसार चयन /प्रोन्नत वेतनमान मे एक वेतनबृद्धि दिए जाने के स्प्ष्ट शासनादेश के बाद भी शिक्षको को लाभ से बंचित किया जा रहा है।

शासन की इस संबंध में स्पष्ट गाइड लाइन के बावजूद विभाग इस पर चुप्पी साधे हुए है। उन्होंने शासन व विभाग को मांग पत्र प्रेषित कर जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाध्यापको की अगली पदोन्नति हेतु नियमावली मे संशोधन करने की मांग की है। साथ ही पूर्व में अविभाजित उत्तरप्रदेश मे जूनियर प्रधानाध्यापको से 10 से 20 प्रतिशत पद प्रतिउपविद्यालय निरीक्षक/वर्तमान मे उपशिक्षा अधिकारी की व्यवस्था बहाल की जाए।

संगठन सरकार से मांग करता है कि जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाध्यापको की अगली पदोन्नति हेतु संकुल स्तर पर लेबल 9या 10 का वरिष्ठ प्रधानध्यापक का पद सृजित कर एवम उपशिक्षा अधिकारी /हाईस्कूल प्रधानाध्यापक पदों पर एक निश्चित कोटा तय कर योग्यताधारी जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक पदों की अगली पदोन्नति सुनिश्चित करने हेतु नियमावली मे संशोधन किया जाय।अन्य सभी राज्य कर्मचारियों की तरह बेसिक शिक्षको के पदोन्नति के अवसरों मे बढ़ोतरी हो सके। बेसिक शिक्षको को अन्य राज्य कर्मचारियों की तरह पदोन्नति के अवसर पैदा हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

देवप्रयाग को स्विटजरलैंड की तर्ज पर स्विस सिटी बनाएगा हिंदुजा ग्रुप

देहरादून। सतयुग के तीर्थ देवप्रयाग को औद्योगिक घराना