बड़े काम की होती हैं मधुमक्खियांः प्रो. रावत

बड़े काम की होती हैं मधुमक्खियांः प्रो. रावत

- in देहरादून
357
0

डोईवाला। मधुमक्खियां बड़े काम की होती हैं। मानव के लिए इनकी उपयोगिता शहद ही तक सीमित नहीं है। बल्कि ये फल, सब्जी, अनाज के उत्पादन में भी रोल प्ले करती हैं।

ये कहना है कि गवर्नमेंट पीजी कॉलेज डोईवाला के जंतु विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. महावीर सिंह रावत का। रावत विश्व मधुमक्खी दिवस पर कॉलेज में बी. एससी. के छात्र छात्राओं के लिए “मधुमक्खी की उपयोगिता“ विषय पर आयोजित पोस्टर प्रतियोगिता के उदघाटन के मौके पर बोल रहे थे।

प्रो० रावत ने कहा कि मधुमक्खियों का हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। ये हमें केवल औषधीय गुणों से युक्त शहद ही उपलब्ध नहीं कराते बल्कि हम जो फल, सब्जियां या अनाज खाते हैं उन में भी कीट पतंगों का भी विशेष योगदान होता है।

मधुमक्खियों के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए और उन्हें खतरों से बचाने के लिए हर साल 20 मई को मधुमक्खी दिवस मनाया जाता है। मधुमक्खी किसी फूल पर बैठती है तो उसके पैरों और पंखों में पराग कण चिपक जाते हैं और जब यह उड़कर किसी दूसरे पौधे पर बैठती है, तब यह पराग कण उस पौधे में चले जाते हैं और उसे निषेचित कर देते हैं।

विश्व की 70 प्रतिशत कृषि कीट-पतंगो पर निर्भर है। उन्होंने कहा कि मधुमक्खी पालन स्वरोजगार का एक महत्वपूर्ण साधन भी है।
महाविद्यालय के प्रिंसिपल प्रो. डीसी नैनवाल ने कहा कि लॉकडाउन में इस प्रकार की गतिविधियाँ महत्वपूर्ण होती है। इससे छात्र छात्रायें अपनी सोच को धरातल पर उतारते है जो एक प्रकार से चित्रकारिता के साथ ही ज्ञानवर्द्धक भी है, जो विद्यार्थियों में एक सकारात्मक सोच विकासित करती है।

इस प्रतियोगिता में हिमानी ने प्रथम स्थान, रिशिका ने द्वितीय स्थान तथा रिया गुप्ता ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। रोशनी एवं नेहा नोटियाल प्रोत्साहन पुरूस्कार हेतु चयनित हुए। महाविद्यालय के प्रो. एसपी सती एवं डा. एसके कुडियाल ने ऑनलाइन पोस्टर प्रतियोगिता के जज की भूमिका निभाई।

महाविद्यालय के जन सम्पर्क अधिकारी डा० कुडियाल ने कहा कि महाविद्यालय इस प्रकार की गतिविधियों को लागातार संचातित करता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोविड-19 पर रूद्रपुर में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय वेबीनार दो जून से

रूद्रपुर। सरदार भगत सिंह गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, रूद्रपुर