लॉकडाउनः तीन घंटे की छूट में सोशल डेस्टेसिंग नदारद

लॉकडाउनः तीन घंटे की छूट में सोशल डेस्टेसिंग नदारद

- in ऋषिकेश
0

 

ऋषिकेश। कारोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए इम्पोज किए गए लॉकडाउन पर तीन घंटे की छूट भारी पड़ रही है। वजह इसमें सोशल डेस्टेंसिंग को फॉलो नहीं किया जा रहा है।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन इम्पोज किया गया है। इसमें प्रत्येक दिन सुबह सात से 10 बजे तक की छूट है। ताकि लोग जरूरी सामान बाजार से खरीद सकें।

इसके लिए दूध, सब्जी और किराना की दुकानें इस दौरान खुली रहती हैं। सुबह सामान के लिए उमड़ रही भीड़ ने लॉकडाउन की गंभीरता पर सवाल खड़े कर दिए हैं। दरअसल, किराना और सब्जी की दुकानों में सोशल डेस्टेंसिंग को फॉलो नहीं किया जा रहा है। परिणाम आशंकाएं बढ़ रही हैं।

लोग बगैर मास्क के ही सब्जी खरीदने की पहुंच रहे हैं। ऐसा ही दुकानदारों में भी दिख रहा है। एक मीटर की दूरी तो दूर लोग सब्जी खरीदने के लिए एक दूसरे की पीठ में उचकते देखे जा रहे हैं। दवाइयों की दुकानों में जरूर सोशल डेस्टेसिंग फॉलो होती दिख रही है।

इस तरह से कहा जा सकता है कि तीन घंटे की छूट कहीं पूरे लॉकडाउन की गंभीरता का न लील जाए। जागरूक लोग इस पर चिंता व्यक्त कर चुके हैं।

टिहरी के जिलाधिकारी वी, षणमुगम का कहना है कि सोशल डिस्टेसिंग फॉलो होनी चाहिए। इसके बारे में लोगों को कई तरह से जागरूक भी किया गया है। दुकानों में ऐसा दिख रहा है तो पुलिस तैनात की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तराखंड में 24 घंटे में 1285 लोगों ने दी कोरोना को मात, 868 नए मामले

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे में 1285