चुनाव लड़ने गांव पहुंचने लगे शहरी भैजी

चुनाव लड़ने गांव पहुंचने लगे शहरी भैजी

- in चमोली
0

कर्णप्रयाग। स्वयं के शहरी होने पर इतराने वाले भैजी चुनाव लड़ने को गांव पहुंचने लगे हैं। अपनी चिकनी चुपड़ी बातों से काकी-काका और बोड़ा-बोड़ी को भरमाने का प्रयास कर रहे हैं।

प्रदेश के 12 जिलों में जल्द ही त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव होने हैं। संभावना है कि इसी सप्ताह इसकी इसकी तिथियों का ऐलान भी हो जाए। इस बीच, गांवों में इन दिनों पंच, प्रधान, बीडीसी और जिला पंचायत सदस्य बनने की मुराद पूरी करने को नेता सक्रिय हो गए हैं।

इसमें बड़ी संख्या में शहरों में बस चुके लोगों की हैं। कोई पत्नी को चुनाव लड़ाने गांव पहुंच चुका है तो कोई स्वयं चुनाव लड़ना चाहता है। इसको चलते इन दिनों गांव में खूब रौनक दिख रही है। अचानक गांव और गांव वालों की चिंता करने वालों की संख्या बढ़ गई है।

चुनाव लड़ने पहुंचे लोग स्वयं के बड़ी राजनीतिक संबंधों का खूब बखान कर रहे हैं। बड़े नेताओं के साथ अपनी फोटो भी दिखा रहे हैं। गांवों की सूरत बदल देने की दावे हो रहे हैं। स्वयं के शहरी होने पर इतराने वाले भाई जी गांवों के लोगों को खूब सपने दिखा रहे हैं।

उनके सपनों के आड़े आ रहे गांव के युवाओं को तमाम तरीके से पटाने के प्रयास हो रहे हैं। शहरों से चुनाव लड़ने गांव पहुंचे लोगों को ग्रामीणों के सवालों से दो चार होना पड़ रहा है। कारण राज्य गठन के बाद संस्थागत उपेक्षा झेल रहे ग्रामीण चुनावों में होने वाले वादों की हकीकत जानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

स्टिंग को लेकर छलका पूर्व सीएम हरीश रावत का दर्द

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के दिग्गज नेता