शैक्षिक प्रमाण पत्रों की जांच का व्यय शिक्षकों पर थोपने का विरोध

शैक्षिक प्रमाण पत्रों की जांच का व्यय शिक्षकों पर थोपने का विरोध

- in टिहरी
0

चंबा। प्राथमिक और जूनियर हाई स्कूल के शिक्षकों के शैक्षिक/प्रशिक्षण प्रमाण पत्रों की जांच का व्यय शिक्षक पर थोपने के विभाग के निर्णय का प्रदेशीय जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ ने विरोध किया है।

उल्लेखनीय है कि विभाग हाईकोर्ट के निर्देश पर प्रथमकि और जूनियर हाई स्कूल के शिक्षकों के शैक्षिक/प्रशिक्षण प्रमाण पत्रों की जांच कर रहा है। इस काम में बजट आड़े आने लगा है। ऐसे में विभाग ने संबंधित शिक्षक पर जांच पर आने खर्च शिक्षक से लेने का निर्णय लिया है।

इसका प्रदेशीय जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है। संघ के प्रदेश महामंत्री राजेंद्र बहुगुणा ने बताया कि प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को ज्ञापन के माध्यम से आपत्ति प्रस्तुत कर दी गई है। उन्होंने बताया कि किसी भी जांच का खर्च शिक्षक से वसूलने का कोई औचित्य नहीं है।

ऐसा अभी तक कभी भी और किसी भी विभाग में नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि यदि को फर्जी नियुक्ति हुई है तो विभागीय स्तर पर जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। कहा कि शिक्षक को सॉफ्फ् टारगेट बनाने की परंपरा बंद होनी चाहिए।

संघ ने सुझाव दिया है कि जांच हेतु बजट के लिए शासन के लिए लिखा जाना चाहिए न कि इसे शिक्षक पर थोपा जाना चाहिए। मांग की कि इस प्रकार के निर्देश को अविलंब वापस लिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कला उत्सव में प्रतिभागियों ने बिखेरे संस्कृति के रंग

देहरादून। राष्ट्रीय कला उत्सव में राज्य का प्रतिनिधित्व