शिक्षिका प्रकरणः बात संभालने में जुटे भाजपा नेता

शिक्षिका प्रकरणः बात संभालने में जुटे भाजपा नेता

- in शिक्षा
1

देहरादून। जनता दरबार में मुख्यमंत्री और शिक्षिका के बीच हुई बहस मामले के तूल पकड़ता देख भारतीय जनता पार्टी अब डैमेज कंट्रोल में जुट गई है।

जनता दरबार में हुई बहस को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आगे बढ़ा दिया। कड़क छवि पेश करने के चक्कर में मुख्यमंत्री ने शिक्षिका को निलंबित भी करा दिया। अब ये पूरा प्रकरण सरकार के गले की फांस बन गया है। उत्तराखंड में पार्टी की आंतरिक राजनीति भी इसमें हिलौरे लेने लगी है।

शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा प्रकरण सोशल मीडिया के माध्यम से पूरे देश में फैल चुका है। भाजपा की जमकर थू-थू हो रही है। पार्टी के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और महिला सम्मान के नारों पर सवाल खड़े हो रहे हैं। कांग्रेस, उत्तराखंड क्रांति दल और सपा इसको लेकर सड़कों पर उतर चुके हैं।

इस बहाने भाजपा के प्रचंड बहुमत की सरकार पर और निशाने भी सधने लगे हैं। भाजपा का हाईकमान भी चिंतित बताया जा रहा है। ऐसे में अब भाजपा इसे संभालने में जुट गई है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे सीधे पीड़ित शिक्षिका से संपर्क कर चुके हैं। न्याय का भरोसा भी दे चुके हैं।

सरकार के प्रवक्ता कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, प्रकाश पंत, प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट समेत तमाम नेता मामले को संभालने में जुट गए हैं। हालांकि मामले में इतनी पेचदगियां हैं कि इसका जल्द संभलना मुश्किल है।

1 Comment

  1. डी एस

    अब तो शिक्षा विभाग से जुड़े राष्ट्रीय स्वयं सेवक के कार्यकर्ता भी नाराज हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोरोना अपडेटः 2757 नए मामले, 37 की मौत 802 स्वस्थ हुए

देहरादून। कोरोना संक्रमण राज्य के हेल्थ सिस्टम की