राज्य के विकास में कृषि के योगदान को बढ़ाने पर देना होगा जोर

राज्य के विकास में कृषि के योगदान को बढ़ाने पर देना होगा जोर

- in देहरादून
0

देहरादून। राज्य के विकास में कृषि के योगदान को बढ़ाने पर जोर देना होगा। इस क्षेत्र के पोटेंशियल का उपयोग करना होगा।  इस दिशा में योजनाबद्ध तरीके से प्रयास किए जाने चाहिए।

ये कहना उद्योगपति राकेश ऑबराय का। ओबरॉय राज्य स्थापना दिवस पर उत्तराखंड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, यूकॉस्ट द्वारा आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य उत्तराखंड की जीडीपी में कृषि का योगदान मात्र चार प्रतिशत है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि कृषि क्षेत्र के पोटेंशियल का उपयोग राज्य की बेहतरी करना होगा। राज्य पलायन आयोग के उपाध्यक्ष डा. एसएस नेगी ने कहा कि कोविड-19 में रिवर्स माइग्रेशन हुआ। महानगरों से गांव लौटे युवा कृषि/बागवानी में रूचि दिखा रहे हैं।

हार्क के संस्थापक डा. महेंद्र सिंह कुंवर ने कहा कि 20 सालों में राज्य ने विकास तो किया है। मगर, अभी भी पर्यावरण संरक्षण के नाम पर राज्य के अधिकार अभी तक सीमित हैं। जो कि राज्य के विकास में बड़ी बाधा के रूप में देखे जा सकते हैं।

यूकॉस्ट के महानिदेषक डा. राजेंद्र डोभाल ने राज्य के विकास में ंविज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की महती भूमिका है और परिशद इस दिषा में कार्य कर रही है। कार्यक्रम के दौरान जीएस0 रौतेला, सलाहकार, साइंससिटीदेहरादून, डा0 बृजमोहन शर्मा, डा0 प्रषान्त सिंह, डा0 जितेन्द्र पाण्डे आदिउपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

नौ गवर्नमेंट डिग्री कॉलेजों को मिले प्रिंसिपल

देहरादून। शासन ने आठ डिग्री कॉलेजों में प्रिंसिपल