उत्तराखंड की राजनीति में मार ताणी….

उत्तराखंड की राजनीति में मार ताणी….

- in राजनीति
0

ऋषिकेश। उत्तराखंड की राजनीति में इन दिनों मार ताणी आखिरी दौं जैसा चल रहा है। नेता 2022 में विधायकी का चुनाव जीतने के लिए तमाम प्रपंच रचने लगे हैं। हालांकि जनता इस बारे इशारों ही इशारों में कहने लगी है कि उसे सब पता है।

करीब चार साल ठसक के साथ रहने वाला सत्ता पक्ष और कमजोरी महसूस करने वाले विपक्ष ने जनता की सुध नहीं ली। अखबारी विकास और सोशल मीडिया में जनहित के लिए संघर्ष होता रहा। मगर, अब स्थिति एका-एक बदल गई है।

सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता मार ताणी आखिरी दौं की तर्ज पर जनता के लिए संघर्ष करते दिख रहे हैं। जनता के लिए एक साथ चिंता करने वालों का शहर से लेकर गांवों तक में जमवाड़ा लग रहा है। नेता और उनके समर्थक विकास के तमाम आइडिया जनता के बीच फ्लोट करने लगे हैं। हालांकि जनता सब जानती है।

जनता पिछले 20 सालों से देख रही है। नेता उनकी आंखों में तैर रहे सवालों को नहीं पढ़ पा रहे हैं। जनता पूछ रही है कि स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल क्यों हैं। सरकार हॉस्पिटल प्राइवेट को क्यों दिए जा रहे हैं। कोरोना से बेरोजगार लोगां के लिए सरकार क्या कर रही है।

पलायन रोकने के लिए सरकारों ने 20 सालों में आखिर क्या किया। सब कुछ मैदानी क्षेत्रों में ही क्यों सिमट रहा है। नेता उक्त सवालों पर जवाब नहीं देते। वो हर पांच साल बाद नए सपने लेकर आते हैं। इन दिनों भी ऐसा ही कुछ दिख रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

हिमालयन नॉलेज नेटवर्कः यू-सैक स्टेट नोडल एजेंसी नामित

देहरादून। हिमालयन नॉलेज नेटवर्क के तहत विभिन्न क्षेत्रों