स्कूली शिक्षाः परीक्षा पर परीक्षा आखिर कितनी परीक्षा

स्कूली शिक्षाः परीक्षा पर परीक्षा आखिर कितनी परीक्षा

ऋषिकेश। उत्तराखंड में सरकारी स्कूलों का हाल अदालत जैसा होने वाला है। अदालत में तारीख पर तारीख लोगों को डराती है और अब स्कूलों में यही स्थिति परीक्षा पर परीक्षा से छात्रों की होने वाली है।

देश में तमाम छोटी-बड़ी सरकारें शिक्षा को लेकर नकली चिंता जाहिर करती है। सरकारी स्कूली शिक्षा में आए दिन होने वाले प्रयोग इस बार का प्रमाण है। किशोर राज्य उत्तराखंड भी स्कूली शिक्षा में प्रयोग करने में कतई पीछे नहीं है।

बहरहाल, इन दिनों प्रचंड बहुमत की सरकार के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने प्रयोगों की झड़ी लगा दी है। फिलहाल बोर्ड की तर्ज पर मासिक परीक्षा का प्रयोग खूब चर्चा में है। जनवरी माह में ये परीक्षा अदालत की तारीख पर तारीख की तर्ज पर होंगी।

देहरादून जिले में अभी 10 वीं और 12 वीं की प्रीबोर्ड परीक्षा चल रही है। 27 जरवरी को छात्र इससे निपटेंगे। 29 जनवरी उन्हें बतर्ज बोर्ड मासिक परीक्षा देनी होगी। इसी परीक्षा के दौरान छात्रों को बोर्ड की प्रयोगात्मक परीक्षा के देनी पड़ सकती है।

परीक्षा पर परीक्षा से शैक्षणिक गुणवत्ता कैसे आएगी ये तो भगवान जाने। मगर, छात्रों में इससे दहशत होना तय है। ठीक वैसे ही जैसे अदालत में लगने वाली तारीख पर तारीख से हाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 हजार के पार

देहरादून। सोमवार को कोरोना के 389 पॉजिटिव मामलों